Advertisement
  1. Music & Audio
  2. Sound Design

कैसे बनाये संगीत "Ragnarök" सॉफ्टवेर सिंथेसाइज़र से

by
Read Time:5 minsLanguages:

Hindi (हिंदी) translation by Dee.P.Tree (you can also view the original English article)

What You'll Be Creating

ये सिंथेसाइज़र के बारे में

Ragnarök एक VST सॉफ्टवेर सिंथेसाइज़र (सिंथ) हैं जैसे की विशेष रूप बनाया गया अस्सी के दशक का सिंथेसाइज़र। उच्च कक्षा के कार्य के लिए इसका कोड C++ में लिखा गया है। ये प्लग-इन हंस पीटर (Hans Peter), संकल्पना, ग्राफिक्स, उपयोगकर्ता पुस्तिका के लिए और ब्योर्न आर्ट (Björn Arlt), प्रोग्रामिंग के लिए की गई एक सहकार्यता का परिणाम है।

Ragnarok VSTRagnarok VSTRagnarok VST
Ragnarök सिंथ का विहंगावलोकन

ये सिंथ की विशेषताएं:

  • ६४ वॉइसेस यानि आवाज़े पॉलीफोनी, पोर्टामेंटो के साथ
  • बैंड-लिमिटेड ऑसिलेटर बैंक, कई वॉइसेस यानि आवाजों के साथ
  • व्हाइट नॉइज़ जनरेटर
  • मल्टी-पोल फ़िल्टर
  • २ एन्वेलोप्स 
  • एल ऍफ़ ओ 
  • ओवरड्राइव 
  • ग्राफ़िक इक्वलाइज़र 
  • दुगुना सटीक प्रोसेसिंग
  • MIDI संचालन
  • कस्टमाइज़ेबल स्किन्स यानि अनुकूल परिधान 
  • विंडोज के ३२ और ६४ बिट्स वर्सन्स के अनुकूल

प्रोजेक्ट सेटिंग्स यानि परियोजना पतिस्थिति

मैंने गीत की गति ९० बीट्स पर मिनट (बीपीएम), ४/४ लय हस्ताक्षर के साथ, निर्धारित की है। मैं C-माइनर स्केल उपयोग कर रहा हूँ। 

प्रोजेक्ट वर्कफ़्लो यानि परियोजना कार्यप्रवाह

मैंने बास नोटों लिखने और सिंथ से शुरू किया था, बाद मे मध्य रेंज की ध्वनि, बाद मे ऍफ़एक्स और अंत में ड्रम्स प्रोग्राम किये।

ये सिंथ के प्रयोग की विधि 

मैंने Initialize प्रीसेट यानि की पूर्वनिर्मित आवाज़ से हर नई आवाज़ बनाना चालू किया, उसके बाद ऑसिलेटर, फ़िल्टर और एन्वेलोप्स को निर्धारित किया।    अंत में मैंने ओवरड्राइव और इक्यू को प्रोग्राम किया। 

बैस्सेस

मैंने पहेली बैस आवाज़ के लिए F0, G#0, A#0, C0, D#1 सुर उपयोग किये। 

Bass C1 synthBass C1 synthBass C1 synth
 बैस C1 पैच यानि की मंद्र आवृत्ति के C1 सुर की पूर्वनिर्मित आवाज़ 

सेटिंग्स यानि की पतिस्थिति:

  • ओस्सीलेटर स्क़ुएर, ८ + ४ + २ 
  • कटऑफ ५०%
  • फ़िल्टर एलपी २४ dB 
  • फ़िल्टर एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य 
  • आवाज़ वॉल्यूम एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य और १००% सस्टेन  
  • ओवरड्राइव २७%

दूसरी बैस आवाज़ के लिए आठ C0 सुर हैं।

सेटिंग्स यानि की पतिस्थिति:

  • ओस्सीलेटर स्क़ुएर, ४ 
  • कटऑफ ५५%
  • फ़िल्टर एलपी २४ dB 
  • फ़िल्टर एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य 
  • आवाज़ वॉल्यूम एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य और २०% डीके
  • ओवरड्राइव १००%

लीड C3

मैंने C, D# और D सुर प्रोग्राम किये। 

Lead C3 synthLead C3 synthLead C3 synth
मैंने मुख्य लीड के लिए पल्स ८ वेव यानि पल्स आकार के तरंग का उपयोग किया।

सेटिंग्स यानि की पतिस्थिति:

  • ओस्सीलेटर पल्स, ८
  • कटऑफ १००%
  • फ़िल्टर एलपी २४ dB 
  • फ़िल्टर एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य 
  • आवाज़ वॉल्यूम एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य और १००% सस्टेन  

इफेक्ट्स: 

  • पिंग पांग डिले, १.५ kHz फ्रीक्वेंसी यानि आवृत्ति, २.८९ बैंडविड्थ , ५०% फीडबैक, ५०% ड्राई वेट  
  • इक्यू एइट, २०० Hz लौ कट २.२ kHz + ३ dB शेल्विंग बूस्ट  

लीड C5

मैं ये लीड के लिए के C5, C6 सुर का उपयोग कर रहा हूँ। 

सेटिंग्स यानि की पतिस्थिति:

  • ओस्सीलेटर पल्स, ८
  • कटऑफ १००%
  • फ़िल्टर एलपी २४ dB 
  • फ़िल्टर एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य 
  • आवाज़ वॉल्यूम एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य और १००% सस्टेन 
  • पोर्टामेंटो ३३% स्वरमान बदलने यानि की पिच बेन्डिंग के लिए 

इफेक्ट्स: 

  • सेच्युरेटर, १५ dB ड्राइव, हार्ड वक्र यानि हार्ड कर्व, १० बेस, १ kHz फ्रीक्वेंसी यानि आवृत्ति, ६१% विड्थ यानि चौड़ाई , -४ ५ डेप्थ यानि गहराई , -१७ dB आउट यानि बाहर, १००% ड्राई वेट, कलर ऑन यानि चालू 
  • ओवरड्राइव, २.६ kHz फ्रीक्वेंसी, ३.४ बैंडविड्थ, ८५% ड्राइव, ७८% टोन, ५०% डायनामिक्स , ४९% ड्राई वेट  
  • पिंग पांग डिले, १.९ kHz फ्रीक्वेंसी, ३.४ बैंडविड्थ , ७५% फीडबैक, ३७% ड्राई वेट  
  •  यूटिलिटी, -३.८ dB वॉल्यूम

पैड C3

पैड के लिए मैंने F3, D#3, D3, C3, A#3, G#3 और G3 सुर उपयोग लिए।  

मैंने Chord midi प्लगइन भी उपयोग मे लिया, स्रोत में -१२ सेमिटोन वॉइस यानि आवाज़ जोड़ते हुए।  

सेटिंग्स यानि की पतिस्थिति:

  • ओस्सीलेटर पल्स, ४
  • कटऑफ ५०%
  • फ़िल्टर एलपी १८ dB
  • फ़िल्टर एन्वेलोप ४०% अटैक, ५०% डीके, ३५% सस्टेन, ५५% रिलीज़  
  • वॉल्यूम आवाज़  एन्वेलोप ५०% अटैक, ५०% डीके, १००% सस्टेन, ५०% रिलीज़  
  • ओवरड्राइव १७%

इफेक्ट्स: 

  • फलेन्जर, २४% ड्राई वेट, १ ms डिले टाइम, ०.६ फीडबैक, १०० Hz हाई पास
  • सिंपल डिले, ४ लेफ्ट सिंक, ६ राईट सिंक, २४% फीडबैक, ५०% ड्राई वेट  
  • कंप्रेसर, -२८ dB थ्रेशोल्ड, २:१ रेश्यो, अटैक डिफ़ॉल्ट, रिलीज़ डिफ़ॉल्ट  
  • रिवर्ब, १०० साइज, २.१ sec डीके टाइम, २ dB रिफ्लेक्ट, २ dB डिफ्यूज, ४४% ड्राई वेट, हाई क्वालिटी  

टाइनी C3

मैंने अंतिम मिड सिंथ आवाज़ एक स्क़ुएर ओस्सीलेटर से प्रोग्राम की। 

सेटिंग्स यानि की पतिस्थिति:

  • ओस्सीलेटर स्क़ुएर, २ 
  • कटऑफ ५५%
  • फ़िल्टर एलपी २४ dB 
  • फ़िल्टर एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य 
  • आवाज़ वॉल्यूम एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य, ३०% डीके के लिए छोड़कर
  • ओवरड्राइव १००%

इफेक्ट्स: 

  • यूटिलिटी, +५ dB बूस्ट 
  • रिवर्ब, २.५ साइज, २.८ sec डीके टाइम, ३.६ dB रिफ्लेक्ट, २.७ dB डिफ्यूज, ३३% ड्राई वेट, हाई क्वालिटी 

ऍफ़एक्स 

ये व्हाइट नॉइज़ यानि की श्वेत शोर है, सुरीले अंश साथ। 

Fx synthFx synthFx synth
ऍफ़एक्स आवाज़ में व्हाइट नॉइज़ यानि की श्वेत शोर के साथ सुरीला अंश भी है। 

सेटिंग्स यानि की पतिस्थिति:

  • ओस्सीलेटर नॉइज़ और स्क़ुएर ८, पल्स, १६ और ८ 
  •  इंटरवल १६ और ८ 
  • मल्टी वौइस् १६
  • कटऑफ २५%
  • फ़िल्टर एलपी १८ dB
  • आवाज़ वॉल्यूम एन्वेलोप हर एक के लिए शुन्य, ५०% डीके और रिलीज़ के लिए छोड़कर 
  • वॉल्यूम आवाज़  एन्वेलोप ०% अटैक, ०% डीके, १००% सस्टेन, ४०% रिलीज़  
  • ओवरड्राइव ९०%

इफेक्ट्स: 

  • रेसोनेटर्स, ५०% ड्राई वेट
  • रिवर्ब, १.४ साइज, १.२  sec डीके टाइम, २.१ dB रिफ्लेक्ट, २.२ dB डिफ्यूज, ४९% ड्राई वेट, हाई क्वालिटी 
  • ओवरड्राइव, डिफ़ॉल्ट सेटिंग्स, ११% ड्राई वेट के सिवा 

ड्रम्स 

मैंने किक्स के लिए एक किक लूप और तीन टॉप लूप्स का प्रयोग किया।   टॉप लूप्स के लिए मैंने इक्यू थ्री (बैस किल स्विच बटन) से निचे के स्तर की फ्रीक्वेंसी यानि की आवृत्ति को दूर किया। 

मिक्सिंग 

मैंने हर एक आवाज़-वर्ग प्रकार के लिए चार समूह बनाये. ड्रम्स पे मैंने आवाज़ की नोक को पकड़कर रखने - कैटचिंग धी पीक्स - के लिए लिमिटर को रखा. बैस के लिए, मैंने साइडचैन कम्प्रेशन पद्धति प्रयोग करते हुए किक से सिग्नल लेकर और किक की फ्रीक्वेंसी को इक्यू  से दूर किया।  मिड्स और ऍफ़एक्स में से मैंने लौ एन्ड फ्रीक्वेंसी को दूर किया। 

ग्रुप्स यानि समूह: 

  • ड्रम्स: लिमिटर
  • बैस: कंप्रेसर, इक्यू  एइट
  • मिड्स: इक्यू एइट
  • ऍफ़एक्स: इक्यू एइट

मास्टरिंग

गीत बनाने  प्रक्रिया का अंत करते हुए मैंने मोनो कम्पेटिबिलिटी यानि की सिर्फ एक स्पीकर पे बजाने के अनुरूपता को जांचने के लिए यूटिलिटी विड्थ को ०% रखा, फिर वापस १००% कर दिया।  उसके बाद मैंने मिड्स में ४० Hz पे लौ कट और साइड्स (मिड-साइड मोड ) में २५० Hz का लौ कट किया, फिर मैंने आवाज़ की नोक को पकड़कर रखने -  कैटचिंग धी पीक्स - के लिए डिफ़ॉल्ट लिमिटर उपयोग में लिया। 

Mastering chainMastering chainMastering chain
मास्टरिंग के लिए मैंने मुख्यतर इक्यू और हलके सेटिंग्स के साथ लिमिटर का प्रयोग किया।

मैंने पहले से ही मिक्सिंग ऊँची आवाज़ में किया है इस लिए मुझे लिमिटर का इनपुट लेवल यानि की स्तर बढ़ाने की ज़रूरत नही है। 

इफेक्ट्स चैन यानि की इफेक्ट्स श्रृंखला 

  • यूटिलिटी
  • इक्यू एइट
  • लिमिटर

एक्सपोर्ट यानि निर्यात 

मैंने गीत को रेंडरिंग यानि की प्रतिपादन के लिए ये सेटिंग को उपयोग में लिया:

  • WAV फाइल टाइप
  • ४४१०० Hz सैंपल रेट 
  • २४ बिट्स बिट डेप्थ 
  • ट्राइएंगुलर डीथरिंग
  • नॉर्मलाइज़ टर्न्ड ऑफ  यानि की बंद
Export windowExport windowExport window
मास्टर ट्रैक को एक्सपोर्ट यानि की निर्यात करने के लिए मूलभूत सेटिंग्स

सारांश

ये टुटोरिअल में मैंने आपको दिखाया की सिर्फ Ragnarök VST प्लगइन से एक गीत कैसे बना सकते है।  मैंने बैस से शुरू कर के ड्रम्स से अंत करते हुए कई समूह के वाजिंत्रो के सर्जन का वर्णन किया। मैंने अपने दो ऑक्टेव के MIDI कीबोर्ड का उपयोग करके मिडी स्वर को आलेखित किया।  मैं एक समय में एक स्तर पर काम करते हुए उत्तरोत्तर बढ़ा। 

Ragnarök सबसे बहुमुखी प्रतिभावान् सिंथ नहीं हैं, लेकिन इसकी खुद की एक अनोखी आवाज़ है और आप रोज़-मर्रा की सिंथ आवाज़े जैसे की लीडस् और बैस्सेस के लिए इसेका सरलता से उपयोग कर सकते है। 

Advertisement
Advertisement
Looking for something to help kick start your next project?
Envato Market has a range of items for sale to help get you started.